How to Apply On-Page SEO in Hindi?

Sharing is caring!

जैसा की सभी ब्लॉगर जानते है कि, सिर्फ ब्लॉग बनाकर पोस्ट लिख देने से वह पोपुलर होने से रहा, इसके लिए आपको कुछ Strategy बनानी पड़ती है जिसके अनुसार ही आप अपने ब्लॉग का प्लान करते है.

उदहारण के लिए एक महीने में कितना पोस्ट लिखेंगे, पोस्ट का niche (दरअसल niche से अभिप्राय है relevant contents क्या होगा, इसे किसकिस सोशल मीडिया में शेयर करेंगे.

इसलिए आपको हमेशा SEO टर्म्स को हमेशा ध्यान रखना पड़ेगा. SEO वह है जिसको हमेशा मेंशन कर आप अपने ब्लॉग को पोपुलर कर सकते है. अपने ब्लॉग को किस तरह से विसिटोर्स के सामने रखेंगे ताकि वह इसे पसंद करे.

जल्दी बोर होकर back करने की वजह से रैंकिंग ख़राब होने का खतरा रहता है इसलिए हमेशा हाई क्वालिटी कंटेंट ही लिखना बेहतर होगा जो लम्बे समय तक रैंक बनाये रख सकने में आपकी मदद कर सकता है.

यहाँ में SEO के On Page SEO के बारे में बताऊंगा. जब आप कोई नया पोस्ट लिखे रहे होते है या इसे मॉडिफाइड कर रहे है, उसी समय यह SEO settings अप्लाई किया जाता है.

पोस्ट को पब्लिश कर देने के बाद Off Page SEO काम करता है इसके अंतर्गतकिसी वेबसाइट से backlink बनाना, सोशल मीडिया में शेयरिंग करना, किसी से अपने ब्लॉग को खोलकर देखने के लिए कहना है.

Submit Blog on Search Engine Website

कुछ लिस्ट है सर्च इंजन साईट की जहाँ अपने ब्लॉग को फ्री में सबमिट कर सकते है, ताकि यह उस साईट के द्वारा इंडेक्स किया जा सके:

  • Google Console

  • Bing Web Master

  • Yandex Web Master

  • DuckDuckGo Web Master

  • Ask Web Master

यह कुछ टॉप वेबसाइट है जहाँ अपने ब्लॉग को क्रॉल करने के लिए वेबसाइट को सबमिट किया जा सकता है. यहाँ गूगल का वेब मास्टर सबसे ऊपर है क्योंकि ज्यादातर वेबसाइट इसी पर खोजे जाते है और सबमिट भी किये जाते है.

जानकारी के लिए आपको बता दिया जाए गूगल का रैंकिंग अभी 1 पर है. ब्लॉग के रैंकिंग के लिए इन सभी पर सबमिट करना जरुरी है.

इसके अलावा अपने ब्लॉग यूआरएल को हर एक वेब मास्टर पर सबमिट करना थकाने जैसा काम है, इसके निदान के लिए कुछ वेबसाइट का सहारा लिया जा सकता है, जिसमे एक बार बस अपना एड्रेस सबमिट करना है और बाकी का काम हर वेब मास्टर पर सबमिशन यह खुद कर लेगा और यह कुछ दिनों में आपको इसका मेसेज भी दे देगा.

Write a Perfect Meta Information

गूगल रैंकिंग के लिए आपके पोस्ट को नहीं स्कैन करता है, वह बस Meta Tags से यह जानकारी लेता है आखिर इसका topics/niche क्या है और इसी आधार पर, साईट को रैंकिंग किया जाता है.

कुछ ब्लॉगर अपने ब्लॉग में किसी सिंगल टॉपिक्स पर पोस्ट करता है और कोई multiple टॉपिक्स पर, multiple topics वाले को, single topic की तुलना में देर से रैंकिंग मिलती है, जिस वजह से single topic वाले के पास जल्द ही ads शुरू कर दिया जाता है.

इसके लिए जरुरी है अपने पोस्ट से रिलेटेड ही Meta Tags लिखे, इसमें कीवर्ड डालने का कतई भी प्रयास न करे, क्योंकि गूगल keyword Stuffing को पालिसी हनन के अंतर्गत रखा है और जितना हो सके meta इनफार्मेशन फिट हो यह 1000 पिक्सल के अन्दर हो.

जितना हो सके Meta Information को पूरी तरह से unique होना हो और इसमें सही तरह से कम रैंकिंग वाले short और long keyword का सही इस्तेमाल किया गया हो.

मेटा tag गूगल बोट के लिए बहुत बड़ा और important factor है, अगर आप अपने information को सही तरह से नहीं लिखते हो तो, आपको रैंक करने में काफी सारा वक़्त लग सकता है और ब्लॉग्गिंग से परेशान होकर इसे छोड़ने के भी मन बना सकते है.

इसे अगर इंग्लिश में लिखा जा रहा है, तो इसके ग्रामर को ध्यान में रखते हुए लिखे, बेहतर ग्रामर के लिए www.grammarly.com का भी सहारा लिया जा सकता है.

मेटा टैग्स सही है या गलत इसके लिए साईट analyser टूल का इस्तेमाल कर सकते है. इसमें https://www.seobility.net/en/seocheck आपकी काफी हद तक मदद कर सकती है.

Use Keywords on Perfect Place

कीवर्ड किसी भी साईट को ग्रो करने के लिए बहुत ही काम करता है. बिना कीवर्ड के कोई भी साईट या ब्लॉग को रैंक करने में सालो लग सकता है और इतने साल में रैंक करेगा इसकी कोई गारंटी नहीं है. अच्छा प्लान के साथ इस्तेमाल करने पर कीवर्ड कुछ महीनो में ही रिजल्ट देना शुरू कर देता है.

इसके लिए किसी वेबसाइट का इस्तेमाल किया जा सकता है, जहाँ से यह चेक किया जा सकता है कौन सा कीवर्ड अभी ट्रेड कर रहा है, ट्रेडिंग करने का मतलब visitors कौन सा कीवर्ड को ज्यादा सर्च कर रहा है. एक बार इसकी सही जानकारी होते ही आप ब्लॉग को टॉप रैंकिंग प्रदान कर सकते है.

कुछ साईट लिस्ट दिया जा रहा है जो Keywords प्लानिंग में आपकी मदद कर सकता है :

  • GOOGLE KEYWORD PLANNER
  • SOOVLE
  • JAXXY
  • AHREFS
  • SEOCOCKPIT
  • WWW.KEYWORDTOOL.IO
  • MOZ KEYWORD EXPLORER

कीवर्ड प्लानिंग करने के बाद जरुरी होता है इसे सही जगह प्लेस करना का. इसे Post Title, Heading, Paragraph, Anchor Text में जोड़ सकते है. इसके अलावा आपको WordPress के टॉप प्लग इन्स SEO Yoast और Rank Math का भी इस्तेमाल कर सकते है. कीवर्ड के सही जानकारी के लिए LinkedIn, Umedy साईट पर कोर्स भी जारी है, जिसके इस्तेमाल से आप सही तरह से इसके बारे में जान सकते है.

और एक बात keywords अगर अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर आर्गेनिक विजिटर्स लाना चाहते है या आर्गेनिक विजिटर आ रहे है, तो इसका मतलब आपका keywords रैंक कर रहा है, और यही वजह है जब तक आप keyword का सही जानकारी नहीं रख पाते है, तब तक यह काम नहीं करेगा.

कई न्यू babies blogger post में कीवर्ड की इस्तेमाल तो करते है, पर यह रैंक करता है क्योंकि एक तो यह उस पोस्ट के कंटेंट से मैच नहीं करता है और उपर से एक ही keywords को कई जगह यूज़ करने से Keyword Stuffing की समस्या उत्पन्न हो जाती है.

जिसके वजह से आपके ब्लॉग का रैंक डाउन हो जाता है और सही समय पर इसका निदान नहीं करने से आपका सारा ग्लोबल और अलेक्सा रैंकिंग को destroy किया जा सकता है.

Optimized Media files

आप बहुत अच्छा लिखते है, पर अगर यह देखने में रोचक नहीं हुआ तो सब बेकार हो जायेगा. सिर्फ टेक्स्ट से कोई ब्लॉग नहीं visitors को आकर्षित कर सकता है, करेगा भी तो ज्यादा दिन तक. इसे इस तरह से समझे क्या आप हमेशा एक ही restaurant में खाने के लिए जाते है“, जवाब होगाना!

क्योंकि हो सकता है आप वहां एक ही तरह के खाना खातेखाते बोर हो गए और चाहते है कोई और फ्लेवर भी मिलना चाहिए और यह करेगा कौन? उस Restaurant का Owner. एकदो ग्राहक ही आपको changing के लिए प्रोत्साहित करेगा, बाकि सब चुपचाप निकल लेगा.

इसके लिए आपको पोस्ट में मीडिया फाइल का भी उसे करना चाहिए, ताकि यह प्रोफेशनल लगे और यही तो किसी पोस्ट का Restaurant Recipe है. मीडिया फाइल फोटोज, वीडियोस, म्यूजिक होता है.

वेबसाइट को अच्छी तरह से चलने के लिए इमेज या और फाइल्स साइज़ कम होना चाहिए साथ ही अच्छा भी दिखना चाहिए. इसे सर्च करने लायक बनाने के लिए alt tag (Alternative Tag) का use करे.

इसके अलावा आप जो भी मीडिया फाइल्स पोस्ट में use कर रहे है, वह आपके पोस्ट से मिलना चाहिए, नहीं आप पोस्ट टेक्नोलॉजी पर लिख रहे है और इमेज medicine का डाल रहे है.

इससे आपके audience पर गलत मेसेज जायेगा और ब्लॉग का bounce rate भी बढ़ने का चांस बढ़ जाएगा. इसलिए इन सभी फैक्टर्स को हमेशा ध्यान में रखकर इसे remove करना चाहिए.

अगर आपने गलती से ही copyright image का इस्तेमाल कर लिया है, तो इसे जल्दी से रिमूव कर दे वरना यह आपके रैंकिंग को नुकशान पहुंचा सकता है.

Write Post according to English Grammar

गूगल ने कुछ साल पहले ही इसे रैंकिंग पालिसी में रखा है. अगर आपका पोस्ट इंग्लिश लैंग्वेज में है तो इसे सही तरह से रैंक करने के लिए ग्रामर का भी ध्यान रखना चाहिए.

इसके लिए अपने grammar को इम्प्रूव किया जाना चाहिए, इसके लिए कोई अच्छी कोचिंग क्लास अटेंड करने में नहीं हिचक न हो और साथ ही साथ ऑनलाइन क्लास को भी इसमें शामिल किया कर सकते है. वैसे www.grammarly.com साईट भी आपका बहुत हद तक मदद कर सकता है.

Always Write Good Length Post

रैंकिंग के लिए पोस्ट का लम्बाई भी बड़ा होना जरुरी है क्योंकि गूगल बोट अच्छे तरह से लिखे गए पोस्ट को टॉप रैंकिंग में जगह देता है, साथ ही पोस्ट लम्बा करने के चक्कर में कंटेंट के गुणवत्ता के साथ कोई समझोता नहीं करना चाहिए.

आप सब के बारे में नहीं जान सकते है, इसलिए जब भी किसी टॉपिक पर लिखने जा रहे है तो इसके बारे में अच्छे तरह से रिसर्च करे. इससे आपके नॉलेज का दायरा बढ़ जायेगा और लम्बा पोस्ट लिखने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं लगेगा.

पोस्ट 600 या 800 words से कम नहीं हो, अभी के समय 1690 words लम्बे पोस्ट को एक मानक माना गया है और और आप जितना लंबा पोस्ट लिखेगे, उसके इंडेक्सिंग के चांस बढ़ भी जाया करेगा.

Minimized CSS and JavaScript to Reduce Loading Time

कई बार ऐसा होता है की ज्यादा बेमतलब के प्लग इन्स को इनस्टॉल कर दिया जाता है और बहुत हैवी थीम को ब्लॉग के चुना जाता है जिसके वजह से पेज लोडिंग बहुत स्लो हो जाता है.

किसी भी ब्लॉग को 4 seconds में लोड होना इसका एक मानक है और इससे ज्यादा समय लगने पर कोई भी यूजर यहाँ रखना पसंद भी नहीं करेगा. पेज देर से लोड होता है और visitors backspace का इस्तेमाल करने से ब्लॉग को bounce back लगता है जिसके वजह से रैंकिंग ख़राब हो जाता है.

पेज के स्पीड को बढाने के लिए CSS और JavaScript को मिनिमम उसे करने से, स्पीड बहुत बढ़ जाती है ,जिससे bounce back का खतरा कम हो जाता है. खुद के ब्लॉग में 14 CSS और इतने के लगभग ही JavaScript काम कर रहा था, जिसके वजह से पेज लोड होने में 1.5 minute लगता था और बहुत बोरिंग महसूस होता था.

इसे इम्प्रूव करने के लिए Ninja Speed प्लग इन्स इस्तेमाल करने से साईट फुल स्पीड में काम करेगा. यह इतना powerful है किसी भी भारी थीम को साधारण थीम में बदल सकता है, वह भी बस इनेबल डिसएबल करते ही.

इसके लिए कुछ टिप्स को फॉलो किया जा सकता है

  • हमेशा लाइट और ब्लैक फॉण्ट, वाइट बैकग्राउंड वाले थीम को ही ब्लॉग में जगह दे.

  • बेमतलब के प्लगइन को रिमूव कर दे और जो trash में है उसे भी हमेशा के लिए परमानेंट डिलीट कर दे.

  • पोस्ट में इमेज फाइल को हमेशा ऑप्टीमाइज़्ड कर के उसे करे.

  • तेज और कम डाउन रहने वाले होस्टिंग का चयन करे, इसके लिए WordPress, BlueHost, SiteGuard का इस्तेमाल किया जा सकता है.

  • offer वाले domain और hosting के चक्कर में बेकार के होस्टिंग को कभी ना ले, क्योंकि यह ऑफर के चक्कर में Reduce Stop Word

किसी भी अच्छे पोस्ट में एक ही शब्द कमसेकम जगह इस्तेमाल करने से उसकी यूनिक नेस बढ़ जाता है, पर अगर एक ही वर्ड को बारबार लिखने से पोस्ट भद्दा और लो क्वालिटी का हो जाता है. इसे reduce करने की जरुरत है, यह एक पोस्ट में 1% के अन्दर ही हो तो बेहतर होगा, कई बार यह 15% या 20% पर पहुँच जाता है.

जैसे अगर आप किसी भी भाषा में ब्लॉग लिखते हो चाहे वो English, Hindi, Nepali, Chinese हो इसके बारे में आपके नॉलेज का दायरा बड़ा होना चाहिए, इससे होगा यह की आप ढेर सारे वर्ड के मतलब को जानकर उसे कहीं भी किसी वर्ड के बदले इस्तेमाल किया जा सकते है. इसे हिंदी में पर्यायवाची शब्द कहते है.

आप जिस भाषा में अभी ब्लॉग लिख रहे है, उसमे इस्तेमाल होने वाले सारे शब्दों के पर्यायवाची शब्द सीखने की कोशिश करे, साथ ही जो भी भाषा सीख रहे है उसके बारे में विस्तार से सही जानकारी हासिल करे यथा ग्रामर कैसा है, शब्द का मतलब क्या है, उसके पोपुलर कहावत क्या है. इन सभी चीजो पर सही तरह से ध्यान देना चाहिए.

निष्कर्ष तो आपको यह पोस्ट कैसा लगा हमेशा कमेंट कर जरुर बताएँ. पसंद आने पर इसे like और share जरुर करे.


Saroj Alam

हलो, मैं सरोज आलम, www.broodhome.com का चीफ एडिटर और फाउंडर। As a beginners मैं परेशान था, आखिर मैं किस टॉपिक पर ब्लॉग लिखूं, पर लिखते लिखते आखिर में सही जगह पहुंच ही गया। इस ब्लॉग पर में खिचड़ी नहीं परोसना चाहता हूं, इसलिए बस Blogging, Money Making आइडिया और Hosting से जुड़े पोस्ट ही पब्लिश करना पसंद करता हूं। I'm not perfect, but try to gives you best Today & Tommorow.

Sharing is caring!

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: